मां सरस्वती की आरती

ॐ जय सरस्वती माता, मैया जय सरस्वती माता।

सद्‍गुण वैभवशालिनी, त्रिभुवन विख्याता ॥ जय. ॥

चंद्रवदनि पद्मासिनी, द्युति मंगलकारी।

सोहे हंस-सवारी, अतुल तेजधारी ॥ जय. ॥

बाएं कर में वीणा, दूजे कर माला।

शीश मुकुट-मणि‍ सोहे, गले मोतियन माला ॥ जय. ॥

देव शरण में आए, उनका उद्धार किया।

पैठि मंथरा दासी, असुर-संहार किया ॥ जय. ॥

वेद-ज्ञान-प्रदायिनी, बुद्ध‍ि-प्रकाश करो।

मोहाज्ञान तिमिर का सत्वर नाश करो ॥ जय. ॥

धूप-दीप-फल-मेवा पूजा स्वीकार करो।

ज्ञानचक्षु दे माता, सब गुण-ज्ञान भरो ॥ जय. ॥

मां सरस्वती की आरती, जो कोई जन गावे।

हितकारी, सुखकारी, ज्ञान-भक्त‍ि पावे ॥ जय. ॥

ॐ जय सरस्वती माता, मैया जय सरस्वती माता।

सद्‍गुण वैभवशालिनी, त्रिभुवन विख्याता ॥ जय. ॥

SHARE
Next articleमां दुर्गा जी की आरती : जय अम्बे गौरी…
धर्म , संस्कृति और समाज की जानकारी के लिए हमारा youtube चैनेल को ज़रूर सबसक्रएब करें ताजा खबरों के लिए हमारी website http://sharanamtv.com/ पर जाए फेसबुक पर हमसे जुड़े रहने के लिए हमें https://www.facebook.com/sharanamtv पर लाइक करे ट्वीटर पर हमें https://twitter.com/sharanamtv पर फालो करें किसी भी तरह की जानकारी के लिए हमें 9654531723 पर व्हाट्सअप्प/टेलीग्राम करें धर्म के प्रचार के लिए आप अपना आर्थिक सहयोग हमें 9654531723 पर PAYTM, PhonePe या google PAY के जरिये कर सकते है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here